Donkey Route: जानिए कैसे हर साल हजारों भारतीय डंकी रूट के जानिये जाते है विदेश, कैसे खतरे होते हैं इस रूट में

Donkey Route: जानिए कैसे हर साल हजारों भारतीय डंकी रूट के जानिये जाते है विदेश, कैसे खतरे होते हैं इस रूट में

What is Donkey Route: फ्रांस में घटित ‘डंकी फ्लाइट’ की घटना इन दिनों चर्चा में है। दरअसल, दुबई से निकारागुआ जा रहे एक विमान को फ्रांस में 21 दिसंबर को मानव तस्करी के संदेह में रोक लिया गया। फ्रांस पुलिस को खबर मिली थी कि विमान में सफर कर रहे यात्री भारत से अवैध तरीके से यात्रा कर रहे हैं। इस विमान में 303 भारतीय सफर कर रहे थे। हर साल दुनियाभर से लाखों लोग अमेरिका, यूरोप, ब्रिटेन जैसे बड़े देशों का बॉर्डर अवैध ढंग से पार करते हैं। इन्हें अवैध तरीकों में से एक है डंकी रूट जोकि बेहद ही खतनाक माना जाता है। आइए जानतें हैं क्या है यह डंकी रूट?

क्या होता है डंकी रूट
डंकी रूट एक गैरकानूनी यात्रा है, जो बहुत से लोग अपने देश से बाहर दूसरे देश की सीमाओं को पार करने के लिए करते हैं इसे डंकी ट्रैवल कहा जाता है। अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन जैसे पश्चिमी देशों में अवैध प्रवासन के लिए इस तरीके का इस्तेमाल किया जाता है ताकि वहां ‘शानदार जिंदगी’ जी सके। इसके लिए केवल एक देश का वीजा लिया जाता है। वहां पहुंचने के बाद आदमी गायब हो जाता है, यानि भागने वाला एक या दो देशों नहीं, बल्कि कई देसों से होते हुए अपनी मंजिल तक पहुंचता है। यह तरीका अवैध है, इसलिए इसमें ट्रांसपोर्ट भी गलत-सलत होता है। लोगों को कार की डिक्की या माल ढोने वाले जहाजों में छिपा दिया जाता है। सहीं जगह पहुंचने पर ही बाहर निकाला जाता है।

ALSO READ :   Top News: देश और राज्यों से बड़ी खबरें, पढ़िए एक क्लिक में

कैसे होते हैं खतरे
पकड़े जाने पर क्लाइंट को जेल में डाल दिया जाता है और अनिश्चित समय के लिए वहां रहना पड़ता है। अवैध तरीके से सीमा पार करते हुए कई बार लोग चरमपंथियों के हाथ पड़ जाते हैं। ये लोग बेहद खतरनाथ हो सकते हैं। कई बार नदियां-नाले पार करने होते हैं, ऐसे में डूबने या प्रकृति आपदा का शिकार हो सकते हैं।

क्या होता है रूट?
रूट इस पर निर्भर करता है कि अवैध एंट्री किस तरह की जा रही है और क्लाइंट को किस देश में जाना है। अगर कोई डंकी रूट से अमेरिका जाना चाहता है तो एक आदमी का चार्ज करीब 40 लाख रुपए होता है। उसे दुबई ले जाया जाता है। वहां से अजरबैजान-तुर्की होते हुए पनामा तक पहुंचाया जाता है। यहां से माक्सिकों से होते हुए अमेरिका की दूरी नापी जाती है। अवैध तरीके से बॉर्डर पार करते हुए अगर लोग किसी मुसीबत में फंस जाएं तो दलाल उसे छोड़कर भाग निकलते हैं। करीब डेढ़ साल पहले मैक्सिको के रास्ते में एक भारतीय कपल अपने बच्चों के साथ मृत मिला था।

ALSO READ :   Sovereign Gold Bond: मोदी सरकार का सस्ता सोना ख़रीदा जा रहा है रिकॉर्ड तोड़, अब तक इतने टन सोने की हुई खरीदारी

इतने भारतीयों ने किया घुसने का प्रयास
रिपोर्ट्स दावा करती हैं कि ‘बेहतर जीवन’ के लिए विदेश जाने की चाहत के चलते लोगों को ‘डंकी फ्लाइट’ का विकल्प चुनते पाया गया है। अमेरिकी सीमा शुल्क और सीमा गश्ती (सीबीपी) के आंकड़ों के अनुसार, 2023 में 96,917 भारतीयों ने अवैध रूप से अमेरिका में प्रवेश करने का प्रयास किया, जो पिछले वर्ष की तुलना में 51.61 प्रतिशत ज्यादा है। सीबीपी के आंकड़ों से पता चलता है कि उन भारतीयों में से कम से कम 41,770 ने मैक्सिकन भूमि सीमा के जरिए अमेरिका में प्रवेश करने का प्रयास किया।

जानिए फ्रांस वाला मामला
21 दिसंबर को मानव तस्करी के संदेह में रोका गया विमान ‘डंकी फ्लाइट’ का ही उदाहरण है। दरअसल, एयरबस A340 दुबई से उड़ान भरकर निकारागुआ जा रही थी इसमें कुल 303 भारतीय सफर कर रहे थे। ये भारतीय संयुक्त अरब अमीरात में संभावित श्रमिक थे, जो अमेरिका या कनाडा में शरण लेना चाहते थे। फ्रांसीसी अधिकारी आव्रजन कानूनों के उल्लंघन के मामले की जांच कर रहे हैं। 27 यात्री अभी भी फ्रांस में हैं। रिपोर्ट के अनुसार, उनमें से दो की गिरफ्तारी कर न्यायाधीश के सामने पेश किया गया और उन्हें सहायक गवाह बनाया गया है।

I am working as an Editor in Bharat9 . Before this I worked as a television journalist with a demonstrated history of working in the media production industry (India News, India News Haryana, Sadhna News, Mhone News, Sadhna News Haryana, Khabarain abhi tak, Channel one News, News Nation). I have UGC-NET qualification and Master of Arts (M.A.) focused in Mass Communication from Kurukshetra University. Also done 2 years PG Diploma From Delhi University.

ALSO READ :   Pari Bhavya Wedding: हरियाणा के बीजेपी विधायक का 'भव्य' रिसेप्शन आज, उपराष्ट्रपति धनखड़ और CM मनोहर देने पहुंचेंगे आशीर्वाद 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *